skip to Main Content

स्मृति- पत्र-

1.संस्था का नाम- शिवशक्ति समाजसेवी कार्यकर्ता समिति।
2.संस्था का पता- 171- आई ब्लॉक विश्वबैंक कॉलोनी बर्रा कानपुर नगर
3.संस्था का कार्यक्षेत्र- सम्पूर्ण उत्तर- प्रदेश।
4 संस्था का उद्देश्य- संलग्नक स्मृति- पत्र के अंकितानुसार।

संस्था कि सदस्यता तथा सदस्यों के वर्ग:-

कोई भी महिला /पुरुष जो इस संस्था के नियमों का पालन करने को तैयार हो तथा इस संस्था के उद्देश्यों में आस्था रखते हो वे इस संस्था के सदस्य अध्यक्ष, प्रबंधक / सचिव द्वारा बनाये जायेंगे।
जो निम्न वर्ग के होंगे –
आजीवन सदस्य- जो सज्जन इस संस्था को एक मुश्त 500/- दान स्वरूप निस्वार्थभाग से देंगे अथवा इतने या इससे अधिक मूल्य की कोई अचल या चल संपत्ति दान स्वरूप दे वे इस संस्था के अजीवन सदस्य होंगे।
सामान्य सदस्य- जो सज्जन इस संस्था को 250/- वार्षिक सदस्यता शुल्क या चंदा के रूप में दिया करेंगे वे इस संस्था के सामान्य सदस्य होंगे।
विशिष्ट सदस्य – ऐसे सज्जन जिनकी आवश्यकता इस संस्था को महसूस हो रही होगी सरकार द्वारा से समिति एवं उपाधि प्राप्त सदस्यों, जनप्रतिनिधि सदस्यों, को जो संस्था का तन, मन, धन से सहयोग करेंगे, वर्तमान प्रबंधकारिणी ऐसे सदस्यों को दो वर्ष के लिये संस्था का विशिष्ट सदस्य मनोनीत करेगी ऐसे सदस्य सदस्यता शुल्क से मुक्त होंगे। उनकी स्वेच्छा से दिया गया दान, चंदा संस्था को स्वीकार होगा। ऐसे सदस्यों को चुनाव में मत देने भाग लेने का अधिकार न होगा।

6. सदस्यता की समिति-
7. सदस्य की मृत्यु होने, पागल या दिवालिया घोषित होने पर।
8. आचरण नष्ट होने एवं संस्था के विरोधी कार्य करने पर।
9. किसी न्यायालय द्वारा अनैतिक कार्य करने पर दंडित किये जाने पर।
10. सदस्यता शुल्क समय से अदा न करने पर।
11. संस्था की लगातार तीन बैठकों में बिना किसी कारण के बताये अनुपस्थित रहने पर।
12. किसी सदस्य के विरुद्ध बहुमत 2/3 बहुमत से अविश्वास का प्रस्ताव पारित होने पर।
13. 7.सदस्य द्वारा त्याग-पत्र दिए जाने व उसे स्वीकृत होने पर सदस्य की सदस्यता स्वत ही समाप्त मानी जावेगी।
7. संस्था के अंग -अ) साधारण सभा, ब) प्रबंधकारिणी समिति।

साधारण सभा-

अ) गठन- साधारण सभा का गठन संस्था के सभी प्रकार के सदस्यों को मिलाकर किया जावेगा।
ब) बैठकें साधारण सभा की सामान्य बैठक वर्ष में एक तथा विशेष बैठक कभी भी आवश्यकतानुसार सदस्यों को सूचना देकर आहू आहूत की जावेगी।
स) सूचना-अवधि – साधारण सभा की सामान्य बैठकों की सूचना सदस्यों को कम से कम 15 दिन पूर्व तथा विशेष बैठक की सूचना सदस्यों को 3 दिन पूर्व सूचना के किसी भी उचित या पर्याप्त माध्यम से दी जावेगी।

द) गणपूर्ति- गणपूर्ति के लिये कुल सदस्यों की संख्या के 2/3 सदस्यों की उपस्थिति का कोरम होगा। काेरम के अभाव में, स्थगित बैठक पून पूर्व एजेंडा विषय पर बुलाई गई बैठक में कोरम 1/2 सदस्यों की उपस्थिति का होगा।

य) विशेष वार्षिक अधिवेशन की तिथि- संस्था का विशेष वार्षिक अधिवेशन प्रति वर्ष होगा जिसकी तिथि संस्था की प्रबंधकारिणी समिति के बहुमत से तय किया जायेगी।

र) साधारण सभा के अधिकार व कर्तव्य –

8.संस्था की प्रबंधकारिणी समिति का समय-समय पर चुनाव संपन्न कराना।
9.नियमों विनियमों से संशोधन परिवर्तन आम सभा के 2/3 बहुमत से कराना।
10.वार्षिक बजट व वार्षिक कार्यक्रमों की रूप रेखा तैयार पर विचार विमर्श कर उसे स्वीकृत/ अस्वीकृत करना।

अ)गठन- प्रबंधकारिणी समिति का गठन संस्था की साधारण सभा में से बहुमत से कम से कम 07 सदस्यों को चुनकर किया, कार्यकारिणी में एक अध्यक्ष, एक उपाध्यक्ष, एक प्रबंधक/ सचिव, एक कोषाध्यक्ष, एवं शेष प्रबंधकारिणी सदस्य होंगे।

ब)बैठकें प्रबंधकारिणी समिति की सामान्य बैठक वर्ष में दो तथा विशेष बैठक कभी भी आवश्यकतानुसार सदस्यों को सूचना देकर किसी भी समय अध्यक्ष द्वारा जायेगी।

सूचना-अविधि- सामान्य बैठकों की सूचना सदस्यों को 7 दिन पूर्व तथा विशेष बैठकों की सूचना सदस्यों को 24 घंटे पूर्व दी जायेगी

द) गणपूर्ति- गणपूर्ति के लिये कुल सदस्यों की संख्या के 2/3 सदस्यों की उपस्थिति का कोरम होगा। काेरम के अभाव में, स्थगित बैठक पून पूर्व एजेंडा विषय पर बुलाई गई बैठक में कोरम 1/2 सदस्यों की उपस्थिति का होगा।
य) विशेष वार्षिक अधिवेशन की तिथि- संस्था का विशेष वार्षिक अधिवेशन प्रति वर्ष होगा जिसकी तिथि संस्था की प्रबंधकारिणी समिति के बहुमत से तय किया जायेगी।

र) साधारण सभा के अधिकार व कर्तव्य –
11.संस्था की प्रबंधकारिणी समिति का समय-समय पर चुनाव संपन्न कराना।
12.नियमों विनियमों से संशोधन परिवर्तन आम सभा के 2/3 बहुमत से कराना।
13.वार्षिक बजट व वार्षिक कार्यक्रमों की रूप रेखा तैयार पर विचार विमर्श कर उसे स्वीकृत/ अस्वीकृत करना।
14.संस्था के विकास हेतु केंद्रीय एवं राज्य सरकार, समाज कल्याण बोर्ड, एवं अन्य संस्थानों, निकायों, प्रतिष्ठानों नागरिक आदि से दान अनुदान चंदा एवं वित्तीय सहायता प्राप्त करना प्राप्त आय को संस्था के द्वितीय उद्देश्य की पूर्ति एवं चैरिटेबिल कार्यों पर व्यय करना।

5.संस्था के विकास हेतु उपईकाइयों एवं उप समितियों का गठन करना एवं उनका विधिवत संचालन करना।

ल) कार्यकाल- प्रबंधकरिणी समिति के पदाधिकारियों एवं सदस्यों का कार्यकाल पांच वर्ष होगा।

10) पदाधिकारियों के अधिकार एवं कर्तव्य-

1- संस्था का मुख्य प्रशासनिक पदाधिकारी होगा।
2.संस्था की ओर से समस्त प्रकार का पत्राचार करना, मीटिंग बुलाना,
3.संस्था की अचल चल संपत्ति की सुरक्षा करना, दान, अनुदान, चंदा व सदस्यता शुल्क प्राप्त करना, प्राप्त आय को संस्था कोष में जमा करना।
4.संस्था की ओर से समस्त प्रकार की अदालती कार्यवाही की पैरवी करना एवं अभिलेखों को अपने पास सुरक्षित रखना।
5.संस्था के अंतर्गत संचालित शिक्षा संस्थानों/ विद्यालयों में कार्यरत कर्मचारियों एवं कार्यकर्ताओं की नियुक्ति निस्कासन, पदोन्नति एवं पदच्युत करना

Back To Top